विसंगतियों के लिए सौपा जाएगा मांगपत्र व संविलियन के लिए आभार…वेतन विसंगति, क्रमोन्नति, वर्ष बंधन, अनुकंपा नियुक्ति,पदोन्नति पर त्वरित निर्णय को लेकर संघ करेगा अनुरोध

0
791

राजनांदगांव।शिक्षक पंचायत संवर्ग से शिक्षा विभाग में संविलियन करने कई वर्षों से शिक्षाकर्मी मांग करते आ रहे थे। परिणाम स्वरूप एक जुलाई 2018 को शिक्षा विभाग में सातवां वेतनमान के साथ संविलियन किया गया ।
संघ प्रमुख गोपी वर्मा ने बताया कि राजनांदगांव जिले सहित पूरे प्रदेश में शिक्षक पंचायत संवर्ग का शिक्षा विभाग में संविलियन किया गया। शेष शिक्षक पंचायत संवर्ग को 8 वर्ष पूर्ण होने पर अगले चरण में संविलियन किया जायेगा।
सातवां वेतनमान के साथ शिक्षा विभाग में संविलियन करने पर छत्तीसगढ़ पंचायत एवं नगरीय निकाय शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष गोपी वर्मा के नेतृत्व में मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह जी को माला पहनाकर संविलियन आभार व्यक्त किया गया जाएगा तथा जो कमियां रह गई है जैसे वर्ग 03 की वेतन विसंगति, क्रमोन्नति,वर्ष बंधन,अनुकंपा नियुक्ति एवं पदोन्नति पर त्वरित निर्णय6 लेने हेतु 5 सूत्रीय फ्रेमिंग वाला माँग पत्र सौपते हुए अतिशीघ्र निर्णय लेने निवेदन एवं मांग पत्र सौपा जाएगा।इस कार्यक्रम में जिला के समस्त वर्गों के7 शिक्षक/शिक्षिकाओं को तथा समस्त पंचायत संवर्गों को उपस्थित होने का आह्वान किया गया है। कार्यक्रम आभार सह मांग 29/09/2018 समय 1:00 बजे बस स्टैंड राजनांदगांव मे किया जाएगा
*विसंगतियों के लिए सौपा जाएगा मांगपत्र व संविलियन के लिए आभार मुख्यमंत्री जी का महामाला से स्वागत कर, स्मृति चिन्ह भेंट किया जाएगा।
छ ग प न नि शिक्षक संघ जिला इकाई राजनांदगांव व जिले के 09 विकास खंड इकाई राजनांदगांव के शिक्षकों व संघ पदाधिकारियो द्वारा *प्रांतीय पदाधिकारी शैलेंद्रयदु,बाबूलाल लाडे,जिलाध्यक्ष गोपी वर्मा,जिला सचिव मनीष पसीने,प्रवक्ता दिनेश कुरेटी व समस्त ब्लॉक अध्यक्षों के अगुवाई में माननीय मुख्यमंत्री जी का सभा में संविलियन के लिए आभार व सहमांग पत्र सौपा जाएगा
*संघ के जिला अध्यक्ष गोपी वर्मा ने इस सम्मेलन से मुख्यमंत्री पर भरोसा जताया की जिस तरह संविलियन का सौगात दिए है वैसे ही वेतन विसंगति, क्रमोन्नति, अनुकंपा नियुक्ति,वर्ष बंधन एवं पदोन्नति का सौगात देगे।
उक्त जानकारी मीडिया प्रभारी देवेंद्र साहू ने दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.