ग्रंथपाल के प्रमोशन से वंचित शिक्षाकर्मयों के लिए CGPNNSS ने किया मांग प्रांतध्यक्ष संजय शर्मा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ACS से मिला….प्रमोशन में अघोषित प्रतिबंध हटाने की रखी मांग

0
482

रायपुर 2 मई 2018  शिक्षक पंचायत ग्रंथपाल के पद प्रदेश भर में पदोन्नति प्रक्रिया लम्बित है ग्रँथपाल पद के  पर प्रमोशन में नियम शर्तों की ऐसी अड़चन अधिकारियों के द्वारा  फंसायी गयी,कि हजारों ग्रंथपाल की पदोन्नति का सपना ही अधूरा रह गया। इस मामले में छत्तीसगढ़ पंचायत नगर निकाय शिक्षक संघ CGPNNSS  ने पंचायत विभाग के एसीएस से मुलाकात कर प्रमोशन में जबरन डाली गयी शर्तों को हटाने और प्रमोशन का रास्ता नये तरीके से खोलने की मांग की है। प्रांताध्यक्ष संजय शर्मा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल जिसमें प्रदेश उपाध्यक्ष हरेन्द्र सिंह,बसंत चतुर्वेदी,प्रांतीय सचिव मनोज सनाढ्य,महामंत्री रंजय सिंह, मीडिया प्रभारी विवेक दुबे,प्रांतीय महामंत्री ओमप्रकाश पांडेय,आशीष राम,गुरुदेव राठौर,प्रांतीय प्रचार सचिव विकास तिवारी,जिलाध्यक्ष संतोष सिंह,जिला संयोजक मुकेश मुदलियार,प्रभाकर सिंह सहित कई पदाधिकारियों ने अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास आर.पी.मंडल को ज्ञापन सौंपकर सूरजपुर और जांजगीर चम्पा में शिक्षक पंचायत ग्रंथपाल के पद हेतु अर्हता प्राप्त सहायक शिक्षकों (पंचायत) को अपात्र बताए जाने और पदोन्नति से वंचित रखने पर आपत्ति जताई।

संजय शर्मा ने छत्तीसगढ़ पंचायत शिक्षाकर्मी(भर्ती तथा सेवा शर्तें)नियम 2012 के नियम 9 (अनुसूची 4) का हवाला देते हुए कहा कि उक्त नियम के अनुसार कोई भी पंचायत शिक्षक पदोन्नति के पद के लिए अपेक्षित शैक्षणिक योग्यता तथा 7 वर्ष का अनुभव रखता है, तो वो पदोन्नति का हकदार होगा। लेकिन सूरजपुर और जांजगीर चम्पा जिले में पदोन्नति समिति/जिला पंचायतों द्वारा छत्तीसगढ़ पंचायत शिक्षाकर्मी(भर्ती तथा सेवा शर्तें)नियम के तहत शिक्षक पंचायत ग्रंथपाल के पद पर पदोन्नति हेतु वांछित योग्यता एवं अर्हता रखनें के बावजूद उन्हें अपात्र बताना तथा पदोन्नति से वंचित रखना कतई न्यायोचित नहीं है।

उन्होनें यह भी बताया कि इन जिलों में सहायक शिक्षक ग्रंथपाल की सीधी भर्ती भी नहीं हुई है ऐसी स्थिति में सीधे तौर पर पदोन्नति हेतु उक्त अर्हताधारी सहायक शिक्षक(पंचायत) हक़दार हैं। गौरतलब है कि सूरजपुर जिले में 70 तथा जांजगीर चम्पा में 25 सहायक शिक्षक पंचायत शिक्षक पंचायत ग्रंथपाल के पद पर पदोन्नति हेतु पात्र हैं तथा लंबे समय से पदोन्नति की बाट जोह रहे हैं यही स्थिति बिलासपुर,गरियाबंद, बलौदाबाजार,‌ कवर्धा, दुर्ग, राजनांदगांव बस्तर संभाग के सभी जिलों,कोरिया, बलरामपुर,जशपुर सहित प्रदेश के अन्य जिलों में भी है जहाँ तकनीकी दिक्कते खड़ी कर पदोन्नति पर अघोषित रोक लगाई गई है। संजय शर्मा ने इस अघोषित रोक को तत्काल हटाते हुए सभी जिलो में पदोन्नति के पात्र शिक्षकों को तत्काल पदोन्नति का लाभ प्रदान करने हेतु सभी जिला पंचायतों को आवश्यक निर्देश देनें का आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.