CEO कांफ्रेंस में शिक्षाकर्मियों के मुद्दे पर अधिकारियों को मिला कड़ा निर्देश समय पर वेतन भुगतान,पदोन्नति नही प्रक्रिया पूर्ण न करने पर कार्यवाही की चेतावनी

0
746

 

रायपुर 7 मई 2018: शिक्षाकर्मियों की सबसे बड़ी मांग संविलियन पर भले ही अभी राज्य सरकार की स्थिति स्पष्ट ना हो लेकिन अधिकारियों ने उनके अन्य सभी छोटे मुद्दे पर विस्तृत चर्चा ceo कान्फ्रेंस में किया। ceo कान्फ्रेंस में अधिकारियों ने सभी ceo को निर्देश दिया कि शिक्षाकर्मियों के स्थानीय मुद्दे वेतन,प्रमोशन, अंशकालीन पेंशन कटौती सहित अन्य विषयों को गंभीरता से लिया जाए CEO कांफ्रेंस में आज शिक्षाकर्मियों के मुद्दे पर भी लंबी चर्चा हुई। कांफ्रेंस में जिला पंचायत CEO को चीफ सिकरेट्री ने सख्त हिदायत दी है कि जानबूझकर शिक्षाकर्मियों के किसी मुद्दे पर लेटलतीफी ना की जाये। वैसे तो शिक्षाकर्मियों की समस्याएं अनगिनत थी, लेकिन आज की बैठक में 5 से 6 मुद्दों पर ही चर्चा की गयी…। वेतन में लेटलतीफी, प्रमोशन में हो रही देरी, ग्रंथपाल की नियुक्ति में हो रहे विवाद, अंशदायी पेंशन राशि में हो रही गड़बड़ी के मुद्दे पर आज चर्चा की गयी।
बैठक में सभी जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को इस बात का निर्देश दिया गया कि मुख्यमंत्री के निर्देश के मद्देनजर हर हाल में 5 तारीख तक शिक्षाकर्मियों को वेतन भुगतान सुनिश्चित किया जाये। साथ ही वेतन भुगतान संबंधी दिक्कतों को भी तत्काल सुलझाया जाये। आबंटन के बावजूद शिक्षाकर्मियों के वेतन में देरी पर अधिकारियों ने नाराजगी जतायी।
आज की बैठक में प्रमोशन में हो रही लेटलतीफी के मुद्दे पर भी चीफ सिकरेट्री और एसीएस आरपी मंडल ने सीईओ को निर्देश जारी किया कि प्रमोशन का लाभ सभी शिक्षाकर्मियों को समय सीमा के भीतर दिया जाये, अगर कुछ व्यवहारिक दिक्कतें आती है, तो उसका भी निराकरण तत्काल किया जाये। बैठक में साफ तौर पर कहा कि नियम के तहत प्रमोशन प्रक्रिया में देरी किसी भी कीमत पर नहीं होनी चाहिये।
अंशदायी पेशन योजना पर सभी सीईओ को वक्त पर राशि को जमा कराने का निर्देश दिया गया है। दरअसल लगातार इस बात की खबरें आ रही थी कि अंशदायी पेंशन का लाभ शिक्षाकर्मियों को नहीं मिल रहा है। साफ्टवेयर में कटौती की गयी राशि जमा नहीं करायी जा रही है, चीफ सिकरेट्री ने कहा है कि पेंशन योजना का लाभ शिक्षाकर्मियों को वक्त पर मिले, इसका ख्याल रखा जाये।
ग्रंथपाल के प्रमोशन के मुद्दे पर भी आज की बैठक में चर्चा हुई। अधिकारियों ने सभी सीईओ को निर्देशित किया है कि अभी ग्रंथपाल के प्रमोशन पर यथास्थिति बनाये रखें…। मतलब जिनकी नियुक्ति ग्रंथपाल के पद पर हुई है, उन्हें ही फिलहाल प्रमोशन का लाभ दिया जाये, लेकिन बाद में इस मामले में नया निर्देश जारी करने की बात कही गयी है।
ग्रंथपाल प्रमोशन के मामले में जारी हो सकता है मार्ग दर्शन
Ceo कांफ्रेंस में ग्रंथपाल के प्रमोशन के मुद्दे पर कोई नया निwर्देश तो वर्तमान मे जारी नहीं किया गया, लेकिन ये कहा गया है कि इस मामले में पंचायत विभाग शीघ्र ही नया निर्देश जारी करेगी। ऐसे में उम्मीद जतायी जा रही है कि ऐसे सहायक शिक्षक पंचायत जो सेवा में आने के बाद में पुस्तकालय विज्ञान की डिग्री ली हो, उन्हें भी प्रमोशन का लाभ मिल जाये, लेकिन अभी फिलहाल पुराने नियमों में किसी प्रकार का तात्कालिक फेरबदल नहीं किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.