विधानसभा में गूंजेगा 1 लाख से अधिक वर्ग 03 के शिक्षाकर्मियों के क्रमोन्नति और वेतन विसंगति….नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव…जानिए आखिर क्यों है नाराज वर्ग 03 के शिक्षा कर्मी

0
2418

रायपुर 4 जुलाई 2018।संविलयन से वंचित 8 साल के कम वाले शिक्षकर्मियो के प्रतिनिधि मंडल ने नेता प्रतिपक्ष से मिलकर अपनी मांग और समस्याओं को विस्तार से रखा।जिस पर उन्होंने इस विषय गंभीरता से लेते हुए विधानसभा कार्यवाही में मजबूती से उठाने की बात कही।18 जून को हुई कैबिनेट के निर्णय से नेता प्रतिपक्ष को अवगत कराया गया। 48000 शिक्षको और उनके परिजनों की ओर से उनको अपनी मांग सरकार तक पहुचाने की अपील और अनुरोध किया गया।
*👉🏿आखिर वेतन विसंगति कैसे व क्यों है और इसे किस तरह से दूर किया जा सकता है…जानने व समझने के लिए इसे जरूर पढ़ें…*
शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा, कैबिनेट की मंजूरी और आदेश जारी होने के बाद भी इसे लेकर अटकलबाजियों और चर्चाओं का दौर जारी है, जिसमें अहम सवाल यह भी है कि संविलियन के इस मसौदे से शिक्षाकर्मी वर्ग 03 को बहुत अधिक नुकसान हो रहा है और पूर्व से चली आ रही वेतन विसंगति की वजह से उन्हें उम्मीद के हिसाब से लाभ नही मिल पा रहा है। संविलियन से पहले वेतन विसंगति दूर किया जाना चाहिए, इससे वर्ग 03 और सभी शिक्षाकर्मियों के आक्रोश कम किया जा सकता है।
अविभाजित मध्यप्रदेश में शिक्षाकर्मी भर्ती तथा सेवा की शर्तें नियम 1997 में ही वेतन विसंगति का बीज रोपण हो गया था। यदि 1997 में ही तत्कालीन सरकार में वेतन पुनरीक्षण नियम 1998 के समतुल्य शिक्षाकर्मी वर्ग 01 को 4000-100-6000, वर्ग 02 को 3500-80-4700-100-5200, वर्ग 03 को 2750-70-3800-75-4400 दिया गया होता तो विसंगति कम हो जाती। परन्तु वर्ग एक को 1200-40-2000, वर्ग दो को 1000-30-1600, वर्ग तीन को 800-20-1200 दिया गया।
शासकीय नियमित शिक्षकों के समतुल्य वेतनमान का सिलसिला 2007 में संशोधित वेतनमान से शुरू हुआ, जिसमें वर्ग 01 को 5300-150-8300, वर्ग 02 को 4500-125-7000, वर्ग 03 को 3800-100-5800 स्वीकृत किया गया। जो कि नियमित शिक्षकों के पांचवे वेतनमान से क्रमशः 200, 500 व 200 कम करके किया गया था। राज्य शासन के अपने आदेश तिथि 17.05.2013 के अनुसार 8 वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर शिक्षाकर्मियों को 01.05.2013 से देय शासकीय शिक्षकों के समतुल्य छ.ग.वेतन पुनरीक्षण नियम 2009 (3 एवं 4) की अनुसूची एक का वेतन बैंड वर्ग 01 को 9300-34800+ग्रेड पे 4300, वर्ग 02 को 9300-34800 ग्रेड पे 4200 तथा वर्ग 03 को 5200-20200 ग्रेड पे 2400 स्वीकृत किया गया।
यहां पर उल्लेखनीय बात यह है कि शासकीय शिक्षकों के समतुल्य वेतनमान स्वीकृत तो कर दिया गया, परन्तु 23 जून 2018 को जिस प्रकार से शिक्षा सचिव ने 8 वर्ष की पूर्ण तिथि से वेतन रिवीजन करते हुए 01.07.2018 को प्राप्त वेतन का 2.57 से गुणा कर प्राप्त राशि को वेतन मैट्रिक्स में वेतन निर्धारण करने का निर्देश दिया गया है, ठीक उसी तरह से दिनांक 01.05.2013 को समयमान/क्रमोन्नत वेतनमान के आधार पर तत्कालीन में मिल रहे मूल वेतन 1.86 से गुणा कर वेतन निर्धारण का आदेश दिया गया होता तो आज की स्थिति में वेतन विसंगति की बात ही नही होती। जबकि केवल वेतन निर्धारण नियम 07 को छोंड़कर नियम 08 के तहत न्यूनतम में वेतन निर्धारण कर दिया गया। नियम 05 को छोंड़कर नियम 13 के तहत पदोन्नत वेतन के आधार पर वेतन पुनरीक्षण कर दिया गया।
वेतन पुनरीक्षण नियम 09 के तहत प्रत्येक वर्ष मूल वेतन का 3% वार्षिक वेतन वृद्धि, नियम 10 के तहत प्रत्येक वर्ष 01 जुलाई को वार्षिक वेतन वृद्धि करने का नियम लागू किया गया तो नियम 07 के तहत 01.05.2013 से पूर्व के विद्यमान मूलवेतन का 1.86 से गुणा करने, नियम 05 के तहत समयमान/क्रमोन्नत वेतनमान में वेतन उन्नयन के आधार पर क्यों नही किया गया ?
*👉🏿वेतनमान निर्धारण में हुई त्रुटि को कैसे सुधारा जाये..*
— पहला कि समतुल्य वेतनमान में 01.05.2013 से पूर्व प्राप्त समयमान/क्रमोन्नत वेतनमान के आधार पर वेतन पुनरीक्षण करते हुए वेतन की गणना की जाये तथा 01.07.2018 की स्थिति में प्राप्त विद्यमान मूलवेतन का 2.57 से गुणांक कर वेतन निर्धारण किया जाये।
— दूसरा यह कि 08 वर्ष की स्थिति में समतुल्य वेतनमान के न्यूनतम में वेतन निर्धारण किया गया है। प्रत्येक वर्ष वेतन वृद्धि की गणना करते हुए 10 वर्ष की तिथि में शासकीय शिक्षकों के समान समयमान योजना के तहत प्रथम उच्चतर वेतनमान का वेतन बैंड एवं ग्रेड में क्रमशः एलबी कैडर के व्याख्याता को 4800, शिक्षक को 4400 एवं सहायक शिक्षक को 4200 ग्रेड पे दिया जाये।
— तीसरा यह कि छ.ग.वेतन पुनरीक्षण नियम 2017 के नियम 05 के 01.07.2018 की स्थिति में क्रमोन्नत वेतनमान के आधार पर वेतन निर्धारण किया जाये।
वेतन विसंगति को समयमान/क्रमोन्नत वेतनमान के आधार पर छ.ग.वेतन पुनरीक्षण नियम 2009 के नियम 07(क) के तहत करके दूर किया जा सकता है, इससे वर्ग 03 सहित सभी वर्गों के आक्रोश को कम किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.