रचनात्मक कार्य के साथ शिक्षाकर्मियों से शिक्षक बने शिक्षाकर्मी मनाएंगे संविलियन की खुशी

0
530

राजनांदगांव 1 जुलाई 2018।प्रदेश के छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय के प्रदेश अध्यक्ष श्री संजय शर्मा व मीडिया प्रभारी विवेक दुबे जी के अनुसार आज जिला के छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय संघ के जिला अध्यक्ष श्री गोपी वर्मा जी ने कहा कि प्रदेश के शिक्षाकर्मियों को राज्य शासन ने संविलियन की सौगात दी है ।
हमारे सभी साथियों को,
संविलियन की नई सुबह मुबारक हो
23 वर्षों की लगातार संघर्ष के बाद ये सुबह देखने को मिला है. इस लडाई में हमनें अपने कई साथियों को खो दिया , उन सब जांबाज साथियों को नमन.
इस लडाई में शुरू से नेतृत्व कर्ता संजय शर्मा जी से लेकर हर वीरों को जिनके बदौलत ये संविलियन जीत मिली सभी को बहुत बहुत बधाई.
जिला सचिव मनीष पसीने ने कहा कि नई सुबह की किरण आप सब के जीवन को नये रंग से भऱ दे बधाई देते हुए शुभकामनाएं दी।शैलेन्द्र यदु,बाबूलाल लाडे,ललिता कन्नौज़े प्रांतीय पदाधिकारियों ने सभी को बधाई देते हुए कहा कि कि शिक्षाकर्मियों ने इस दिन और इस महीने को यादगार बनाने के लिए पौधारोपण अभियान चलाने का निर्णय लिया है जिसकी शुरुआत भी आज हो गई है । निर्णय के तहत प्रदेश के शिक्षक (एल.बी) 1 जुलाई यानी आज से लेकर 30 जुलाई तक अपने स्कूल परिसर के अंदर या आसपास संविलियन दिवस को यादगार बनाने के लिए वृक्ष लगाएंगे और पर्यावरण को हरा-भरा करने में मददगार बनेंगे .. प्रदेश के शिक्षाकर्मी पहले भी कई प्रकार के जागरूकता अभियान चलाते रहे हैं लेकिन इस बार उन्होंने अपने संविलियन को यादगार बनाने के लिए यह मुहिम चलाई है और छुट्टी का दिन होने के बावजूद सुबह-सुबह इस मुहिम की शुरुआत हो गई है । प्रदेश में शिक्षाकर्मियों की तादाद बहुत अधिक है और सीधे तौर पर लाभ पाने वाले शिक्षाकर्मियों की संख्या 1 लाख से भी अधिक है इसलिए इसे एक बहुत बड़ा अभियान माना जा रहा है जिसका सीधा फायदा पर्यावरण और समाज को भी होगा ।
हालांकि शिक्षाकर्मियों का एक बड़ा तबका लाभ के दायरे में आने से छूट गया है और इसे लेकर उनमें कुछ नाराजगी भी है क्योंकि मध्य प्रदेश की तर्ज पर यहां सभी शिक्षाकर्मियों का संविलियन करने के बजाए वर्ष बंधन लागू करते हुए केवल 8 वर्ष से ऊपर की सेवा देने वाले शिक्षाकर्मियों का ही संविलियन किया गया है बावजूद इसके जहां 8 वर्ष से कम सेवा अवधि वाले शिक्षकों के लिए प्रदेश के शिक्षाकर्मी लड़ाई भी लड़ रहे हैं और विरोध प्रदर्शन भी जारी है वही सकरात्मक पहल करके शासन को यह भी संकेत दे रहे हैं की शिक्षाकर्मी अपनी नई भूमिका के प्रति कितने अधिक सकारात्मक है और आने वाले समय में इसका असर भी देखने को मिलेगा ।

क्या कहना है शिक्षाकर्मी नेताओं का-शैलेन्द्र यदु,बाबूलाल लाडे,मनीष पसीने,दिनेश कुरेटी व समस्त ब्लॉक अध्यक्ष

संविलियन की सौगात पाने के बाद प्रदेश संगठन के निर्णय अनुसार जिला संगठन ने इस दिन को और पूरे जुलाई माह को संविलियन माह के रूप में घोषित किया है और एक अभियान के तहत जिले के हजारों शिक्षाकर्मी अपने स्कूल परिसर में या उसके आसपास वृक्षारोपण करेंगे जिसकी शुरुआत आज से हुई है । जिस प्रकार वृक्ष से फल,फूल, जड़ी बूटी, छाया समेत अनेक प्रकार के लाभ हमें प्राप्त होते हैं उसी प्रकार संविलियन से भी शिक्षक संवर्ग को कई प्रकार के लाभ मिलेंगे और निश्चित तौर पर इससे प्रदेश की शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ेगी साथ ही मुख्यमंत्री से हम अपील करते हैं कि मध्यप्रदेश के तर्ज पर यहां भी प्रदेश के सभी शिक्षाकर्मियों का संविलियन किया जाए क्योंकि इसके बगैर शिक्षाकर्मियों के साथ न्याय अधूरा है और 8 वर्ष वाले से कम सेवा अवधि वाले शिक्षाकर्मी खुद को छला हुआ महसूस कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.