“ग्रीष्मावकाश एवं भीषण गर्मी में समर क्लास लगाना अव्यवहारिक, अनुचित एवं गलत, फेडरेशन ने प्रदेश के मुख्यमंत्री, माननीय श्रीमान भूपेश बघेल को खुला पत्र लिखकर, समर क्लास को तत्काल रद्द करने की मांग की”

0
1176

“रायपुर”। मई माह की तपती धूप और झुलसा देने वाली इस भीषण गर्मी में समर क्लास लगाना किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं। ‘फेडरेशन’ के प्रदेश संयोजक जाकेश साहू ने बताया कि “छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन” पंजीयन क्रमांक 122201859545 ने, प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय श्रीमान भूपेश बघेल को पत्र लिखकर, समर क्लास को तत्काल रद्द करने के आदेश जारी करने की मांग की है।
फेडरेशन द्वारा मुख्यमंत्री माननीय श्रीमान भूपेश बघेल को लिखा गया खुला पत्र :-

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

प्रति,
माननीय श्रीमान भूपेश बघेल जी,
मुख्यमंत्री, छत्तीसगढ़ शासन (छ.ग.)।
विषय :- समर क्लास को तत्काल रद्द करने के आदेश जारी करने हेतु।
महोदय जी,
उपरोक्त विषयान्तर्गत प्रतिवर्ष गर्मी के दिनों में मई एवं जून में दो माह तक ग्रीष्मावकाश रहता है। यह परम्परा देश की आजादी से पहले की चली आ रही है।
जवाहर नवोदय विद्यालय, केंद्रीय विद्यालय सहित देशभर के सभी राज्यो के समस्त स्कूलों में वर्तमान में ग्रीष्मावकाश दिया जा चुका है।
परन्तु छत्तीसगढ़ में “राज्य परियोजना कार्यालय” के प्रबंध संचालक आईएएस. पी.दयानंद के द्वारा प्रदेश के समस्त जिला कलेक्टरों को अर्द्ध शासकीय पत्र जारी कर समर क्लास लगाने हेतु कहा गया है जिसके बाद सभी जिलों में समर क्लास लगाया जा रहा है।
चूंकि इतनी भीषण गर्मी में समर क्लास लगाना कतई ऊँचीत नहीं है। पूरे भारत देश एवं देश के सभी प्रदेशों में प्रतिवर्ष शिक्षा सत्र 01 जुलाई से 30 अप्रैल तक 10 माह का होता है जिसमें सभी गतिविधियों को नियमानुसार पूर्ण किया जाता है।
10 माह के व्यस्त शेड्यूल खत्म होने एवं अप्रैल माह तक सभी कक्षाओं के परीक्षा आदि सम्पन्न होने के बाद मई और जून में दो माह ग्रीष्मावकाश रहता है, जिसमें एक ओर जंहा समस्त स्कूली छात्र-छात्राएं अपने नाना-नानी, दादा-दादी, मौसा-मौशी, बुआ-फूफा, चाचा-चाची, सहित अन्य सभी रिश्तेदारों के यंहा छुट्टियां बिताने जाते है वंही दूसरी ओर शिक्षक स्टॉप भी अपने-अपने पुस्तैनी गांव आदि जाकर सभी रिश्तेदारों एवं घर परिवार वालों के साथ समय बिताते हैं क्योंकि अधिकांश शिक्षक अपने घर-परिवार से दूर-दराज रहकर ड्यूटी व नौकरी कर रहे है।
मई माह के इतनी भीषण गर्मी में अभी स्कूलों में कक्षाए लगाना किसी भी स्थिति में सम्भव नहीं है क्योंकि प्रदेशभर के लगभग 90 प्रतिशत स्कूलों में पंखे, कूलर आदि की व्यवस्था ही नहीं है।
जिस प्रकार सफर में एक निश्चित दूरी तय करने के बाद गाड़ी को विश्राम देना आवश्यक होता है, इस संसार मे सारे प्राणी एक निश्चित समय तक काम करने के बाद कुछ समय आराम करते है, ठीक उसी प्रकार दस माह के व्यस्त शेड्यूल के बाद, शरीर को मानशिक विश्राम हेतु, गर्मी के दिनों में स्कूलों की छुट्टियां अतिआवश्यक होती है। जिससे कि स्कूली बच्चे व शिक्षक लगातार दस माह की पढ़ाई-लिखाई एवं व्यस्त शेड्यूल के बाद भीषण गर्मी में दो माह छुट्टियां बिताकर मानशिक रूप से रिफ्रेश व तरोताजा हो सके। जिससे कि नए शिक्षा सत्र में पूरे जोश व उत्साह के साथ पढ़ाई-लिखाई के कार्य मे पुनः लग सके।
माननीय मुख्यमंत्री महोदय जी, आपको हम बताना चाहेंगे कि प्रदेश में कुछ विभागीय अफसरों के द्वारा राज्य के जनप्रतिनिधियों को विश्वास में लिए बगैर ही, जनभावनाओं एवं आम जनमानस के हितों के विरुद्ध, अपने मनमर्जी से, कुछ भी मनगढ़ंत आदेश निकाल दिए जाते है। अभी जो समर क्लास लगाने का आदेश निकाला गया है वह भी कुछ ऐसा ही है।
विभाग के एक अफसर द्वारा गर्मी के मौसम व ग्रीष्मावकाश की परवाह किए बगैर उक्त समर क्लास लगाने का आदेश निकाल दिया गया है जिससे राज्य के लाखों बच्चे, पालक व शिक्षक परेशान है। साथ ही आम जनमानस में, अधिकारीयों के उक्त फैसले से राज्य सरकार की बेवजह किरकिरी हो रही है।
अतः माननीय महोदय जी, “छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन” पंजीयन क्रमांक 122201859545 आपसे यह अपील करती है कि आप समर क्लास लगाने के अफसरों द्वारा लिए गए एकतरफा निर्णय को तत्काल रद्द करें व इस सम्बंध में आदेश जारी करने की महान कृपा करें।
अतः हमें आपसे आशा ही नहीं वरन आप पर पूर्ण विश्वास है कि आप समर क्लास को रद्द करने का आदेश तत्काल जारी करेंगे।
सधन्यवाद!

-: आवेदक :-

जाकेश साहू, रंजीत बनर्जी, छोटेलाल साहू
इदरीस खान, अश्वनी कुर्रे, हुलेश चन्द्राकर
बसंत कौशिक, राजेश पाल, संकीर्तन नंद
शंकर नेताम, सुखनन्दन यादव, नोहर चंद्रा
तरुण वैष्णव, अशोक नाग, मुकेश सिन्हा
शिव सारथी, मनीष मिश्रा, भारती साहू
अजय गुप्ता, सीडी भट्ट, माहिर सिद्दीकी
(प्रांतीय संयोजकद्वय)

सिराज बख्स, शिव मिश्रा, कौशल अवस्थी
रविप्रकाश लोहसिंह, दिलीप पटेल
(संभाग संयोजकद्वय)

अभय वर्मा, यादराम हिरवानी, किलेश्वरी सांडिल्य, प्रेमलता शर्मा, भोजराम गंजीर, सुधीर शर्मा, दुर्गेश मेहरा, बाबूलाल ध्रुव, मनोहर राजपूत, बैजनाथ यादव, निर्मल भट्टाचार्य, उमा पांडेय, ममता बंजारा, मुनिया निर्मलकर, अशोक कुर्रे, हरकेश भारती, आर.के.शेखराज, कौशल श्रीवास्तव, ऋषि राजपूत, ठाकुर कर्ण सिंह, ओमप्रकाश खैरवार, देवनारायण गुप्ता, संजय मेहर, मिलन साहू, अशोक ध्रुव, जलज थवाईत, तुलसी पटेल, श्रवण मरकाम, सुलभ त्रिपाठी, दिलीप सूर्यवंशी, शैलेश पांडेय, जितेंद्र साहू, प्रकाश बघेल, लोकनाथ सिन्हा, बनमोती भोई, देशन पटेल, कीर्तन मंडावी, राजकुमार यादव, रमेश साहू, किरण बाला लाटिया, राजू पाटिल, भक्ताराम मंडावी, हिरेन्द्र शर्मा, किरणबाला लाटिया, चेतन बैरागी, शुशील प्रधान, लोकेश रंजन जैन, अजय राजपूत, पारख प्रकाश साहू, रोशन साहू, ईश्वर कश्यप, चंद्रप्रकाश तिवारी, नानसाय मिंज, अर्चना शर्मा, रोशन साहू, ओमप्रकाश साहू, त्रिभुवन वैष्णव, चंद्रशेखर विजयवार, सुधीर शर्मा, भोजराम सिन्हा, संतोष वट्टी, दिनेश मिरी, चंद्रशेखर विजयवार, छोटूराम साहू, शैलेन्द्र कुमार साहू, सुरेंद्र निर्मलकर, जितेंद्र कुठारे, राजकुमार कोरी, ईश्वरी टंडन, नेहा खंडेलवाल, चंद्रशेखर साहू, नरेंद्र सिन्हा, अशोक मृघा, संदीप पांडे, रवींद्रनाथ तिवारी, संजय सिंह ठाकुर, जितेंद्र साहू, दीपेंद्र सिंह, शैलेश पांडे, नानसाय मिंज, लव कुमार गुप्ता, भरत यादव, मुकेश जालान, निस्तारे लकड़ा, जिला अध्यक्ष गण/संयोजकगण रायपुर – धीरेन्द्र साहू, छोटूराम साहू, चंद्रशेखर साहू, ओमप्रकाश वर्मा, चेतन बैरागी, धमतरी – हुलेश चन्द्राकर, पवन परिहा, महासमुंद – आदित्य गौरव साहू, ईश्वर चन्द्राकर, तुलसी पटेल, मनोज राय, गरियाबंद – अशोक तिवारी, यादवेंद्र गजेंद्र, मनोहर राजपूत, बलौदाबाजार – संजय यादव, यादराम हिरवानी, मनीष डड़सेना, दुर्ग – लेखपाल सिंह चौहान, कृष्णा वर्मा, दुष्यंत कुम्भकार, राजनांदगांव – शंकर साहू, छन्नूलाल साहू, विकास मानिकपुरी, मिलन साहू, बेमेतरा – कौशल अवस्थी, अशोक ध्रुव, बालोद – देवेन्द्र हरमुख, भोजराम सिन्हा, कवर्धा – विरेन्द्र चन्द्रवंशी, बस्तर – देवराज खूंटे, कांकेर – रविप्रकाश लोहसिंह, दंतेवाड़ा – अशोक नाग, कोंडागांव – बलराम यादव, मुकेश सिन्हा, सुकमा – उत्तम बघेल, नारायणपुर – देवेन्द्र देवांगन, बीजापुर – पुरुषोत्तम झाड़ी, महेश सेट्ठी, बिलासपुर – डीएल पटेल, अशोक कुर्रे, राजकुमार कोरी, मुंगेली – गजेंद्र घुमसरे, सुलभ त्रिपाठी, रायगढ़ – रमेश पटेल, अश्वनी दर्शन, विजेंद्र चौहान, गौरीशंकर पटेल, कोरबा – नोहर चंद्रा, विनोद पाल, जांजगीर चांपा – शिवमोहन साहू, दिलीप सूर्यवंशी, शैक्षणिक जिला शक्ति – चंद्रप्रकाश तिवारी, अलेखराम सारथी, सरगुजा – शिव मिश्रा, शैलेश पांडे, कोरिया – विश्वास भगत, बलरामपुर – चन्द्रदेव राम, चक्रधारी सिंह, हरकेश भारती, सूरजपुर – विजय साहू, जशपुर – टिकेश्वर भोई एवं समस्त ब्लाक अध्यक्ष गण, समस्त संकुल अध्यक्ष गण, समस्त प्रान्त, जिला एवं ब्लाक पदाधिकारीगण एवं समस्त शिक्षाकर्मी साथीगण।
“छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन”
पंजीयन क्रमांक – 122201859545

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.