कल मुख्य सचिव द्वारा बुलाई गई बैठक से शिक्षा कर्मियों को भरोसा…किसान के बाद अब कर्मचारी…शिक्षा कर्मियों को उम्मीद है अब मांगो का निराकरण शीघ्रता से होगा

0
6465
shiksha karmi news GROUP

कल की बैठक से शिक्षा कर्मियों को भरोसा

*शिक्षा कर्मियो के लिए जन घोषणा पत्र में की गई घोषणा के अनुरूप हो समाधान*
*कल 20 दिसंबर को जनघोषणा पत्र के क्रियान्वयन के लिए मुख्य सचिव ने बुलाया अधिकारियों की बैठक*

प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिक्षाकर्मियों के आंदोलन के दौरान जगह-जगह शिक्षा कर्मियों की मांगों का समर्थन किया था एवं सरकार आने पर शीघ्र निराकरण करने का भरोसा शिक्षाकर्मियों को दिया था।

टी एस सिंहदेव जी से छ ग पं न नि शिक्षक संघ के पदाधिकारी ने कई जिले में जन घोषणापत्र तैयार करते समय मुलाकात किये थे,,संघ पदाधिकारियों ने शिक्षा कर्मियों की मांगों से उन्हें अवगत कराया था, जिसके बाद ही कांग्रेस के द्वारा अपने जन घोषणा पत्र में शिक्षाकर्मियों के कई समस्याओं के निराकरण करने के विषय को शामिल किया गया था।

छत्तीसगढ़ पंचायत न नि शिक्षक संघ के प्रदेशाध्यक्ष संजय शर्मा एवं प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह, देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, विनोद गुप्ता, प्रांतीय सचिव मनोज सनाढ्य, प्रांतीय कोषाध्यक्ष शैलेन्द्र पारीक, प्रांतीय संयोजक सुधीर प्रधान, प्रदेश मीडिया प्रभारी विवेक दुबे ने भूपेश बघेल जी के मुख्यमंत्री बनने पर बधाई देते हुए कहा है कि कल के बैठक में शिक्षाकर्मियो के लिए जन घोषणा पत्र में उल्लेखित विषय को शीघ्र लागू करने हेतु निर्देश दिया जावे।

*संविलियन* 2 वर्ष पूर्ण कर चुके समस्त शिक्षाकर्मियो का हो संविलियन

*क्रमोन्नति* पदोन्नति से वंचित समस्त वर्ग के शिक्षाकर्मियो को दे तत्काल क्रमोन्नति

*पदोन्नति*- प्राचार्य, प्रधान पाठक के साथ सभी स्तर के पदों पर तत्काल हो पदोन्नति

*पुरानी पेंशन बहाली* पुरानी पेंशन बहाली के लिए आवश्यक कार्यवाही किया जावे

*वेतन विसंगति* वेतन विसंगति को तत्काल निराकृत किया जावे

*अनुकम्पा नियुक्ति* लम्बित अनुकम्पा नियुक्ति को शीघ्र निराकृत किया जावे

प्रदेश के शिक्षा कर्मी व कर्मचारियो ने कांग्रेस के घोषणा पत्र में भरोसा किया है, अतः जन घोषणा पत्र में प्रमुखता से शिक्षा कर्मियो के शामिल विषय को अविलम्ब समाधान किया जावे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.