संयुक्त शिक्षक संघ का प्रांतीय वर्चुअल बैठक संपन्न, शिक्षक अधिकार हित में लिया गया बड़ा निर्णय…एक सूत्रीय मांग:”प्रथम नियुक्ति तिथि से सेवा की गणना कर शिक्षा विभाग में प्रचलित समस्त लाभ”:क्रमोन्नति, पदोन्नति, वेतन विसंगति, पुराना पेंशन, त्रिस्तरीय समयमान वेतनमान,अनुकम्पा नियुक्ति आदि की प्राप्ति पर चरणबद्ध कार्ययोजना।

0
582

संयुक्त शिक्षाकर्मी/शिक्षक संघ छत्तीसगढ़ पंजीयन क्रमांक 2571 की प्रांतीय वर्चुअल बैठक दिनांक 09 अगस्त 2020 को प्रांताध्यक्ष केदार जैन की अध्यक्षता एवं प्रांतीय पदाधिकारियों तथा जिला अध्यक्षों की उपस्थिति में संपन्न हुआ। बैठक में शिक्षा-शिक्षक हित एवं संघ की मजबूती पर विस्तार से चर्चा करते हुए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक में पूर्व निर्धारित एजेंडा अनुसार चर्चा प्रारंभ हुआ जिसमें प्रदेश के शिक्षक संवर्ग के अधिकार प्राप्ति के लिए सभी मांगो को समाहित करते हुए “एक मांग” शिक्षाकर्मी/गुरुजी/संविदा शिक्षक के प्रथम नियुक्ति तिथि से सेवा की गणना करते हुए शिक्षा विभाग में प्रचलित समस्त लाभ यथा क्रमोन्नति, पदोन्नति, वेतन विसंगति, पुराना पेंशन, त्रिस्तरीय समयमान वेतनमान, 2 वर्ष में संविलियन के आदेश पश्चात ऊपर की कुल सेवा की गणना के आधार पर क्रमोन्नति/वेटेज का लाभ, लंबित अनुकंपा नियुक्ति प्रदान किया जाए। इसे ही संघ द्वारा प्राथमिकता प्रदान कर अंगीकृत किया गया। यह मांग न्यायसंगत एवं तर्कपूर्ण हैं, क्योकि इससे पहले भी शिक्षकीय सेवा की गणना के आधार पर शिक्षक सवर्ग को शासन द्वारा लाभ प्रदान किया जाता रहा है। सत्तासीन काँग्रेस पार्टी के जनघोषणा पत्र में भी कुल सेवा के आधार पर क्रमोन्नति आदि प्रदान करने का वायदा शिक्षक समुदाय से किया गया हैं, जो इस मांग को मजबूती प्रदान करता है। वर्तमान कोरोना काल अनुसार जल्द ही इसका कार्ययोजना बनाकर, चरणबद्ध रूप से विशेष अभियान के साथ प्रारम्भ किया जाएगा जो परिणाम मूलक रहेगा।
स्थानीय समस्या में कोरोना काल में विभिन्न नवाचार के शिक्षा पद्धति जिसमें कोरोना के संक्रमण की संभावना हो उसको बंद करने का आग्रह सरकार से किया जाएगा। जिससे कोरोना सक्रमण की संभावना न हो ऐसे पद्धति का संघ समर्थन करता हैं, जिससे छात्रों को शिक्षा प्रदान किया जाता रहेगा। शिक्षक पंचायत/नगरी निकाय संवर्ग के लंबित एनपीएस राशि को एनपीएस खाते में समयसीमा तय कर ब्याज सहित जमा करने का मांग सरकार से किया जाएगा। बैठक में संघीय मजबूती व विस्तार के लिए प्रांतीय पदाधिकारियों एवं जिला अध्यक्षों से प्राप्त सुझाव को समेकित कर नवीन कार्य योजना निर्मित की गई।
शिक्षक हित में अधिकार प्राप्ति के लिए संघ निरंतर कार्य करता रहेगा। प्रांतीय बैठक के माध्यम से समस्त पदाधिकारियों ने प्रदेश के शिक्षक संवर्ग से शिक्षक हित में चलाए जाने वाले अभियान में सफलता प्राप्ति के लिए शत प्रतिशत जुड़ने का अपील एवं आह्वान किया हैं।
: वर्चुअल बैठक में शामिल पदाधिकारी :
केदार जैन (प्रांताध्यक्ष), ओमप्रकाश बघेल (कार्यकारी प्रांताध्यक्ष), गिरजा शंकर शुक्ला ,अर्जुन रत्नाकर, नरोत्तम चौधरी (उप प्रांताध्यक्ष), रूपानंद पटेल (प्रांतीय सचिव), ताराचंद जायसवाल (प्रांतीय कोषाध्यक्ष), श्रीमती ममता खालसा (प्रदेश अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ), श्रीमती माया सिंह (प्रदेश उपाध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ), शहादत अली (प्रांतीय महामंत्री), सुभाष शर्मा, विजय राव (प्रांतीय प्रवक्ता), अमित दुबे (प्रांतीय मीडिया प्रभारी) ,गोपेश साहू (प्रदेश अध्यक्ष नगर प्रकोष्ठ), सहदेव सोनवानी, अमित महोबे, मुकुंद उपाध्याय (संभाग अध्यक्ष बिलासपुर), राकेश शुक्ला (संभाग अध्यक्ष सरगुजा)
जिलाध्यक्ष : सचिन त्रिपाठी (सूरजपुर), संतोष टांडे(जशपुर), नित्यानंद यादव (कोरबा), राजकमल पटेल (रायगढ़), विकास सिंह ठाकुर (जांजगीर चांपा), हरीश सिन्हा (धमतरी), शैलेंद्र तिवारी (बस्तर), विजय धृतलहरे (महासमुंद), नारायण देवांगन (सक्ति), अशोक गोटे (कांकेर), संजय महाडिक (गरियाबंद), मोहन लहरी (मुंगेली),
अन्य पदाधिकारी :अमित महोबे जिला सचिव धमतरी,बसंत जायसवाल (बिलासपुर), जितेंद्र सिन्हा (अभनपुर), सुरेंद्र पटनायक, सौरभ पटेल (रायगढ),गिरिवर यादव,भुवनेश्वर सिंह (सूरजपुर), शरद राठौर (जांजगीर चम्पा), कौशल नेताम (कोंडागांव), मैडम शमीम खान, श्रीमती भारती देवांगन आदि शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.