“छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन” के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव आगामी रविवार, 10 मार्च को राजधानी रायपुर में…खुली प्रांतीय महासभा व बैठक में प्रदेशभर के आम शिक्षाकर्मी साथी हाथ उठाकर चुनेंगे अपना भावी प्रदेश नेतृत्व….03 मार्च को हुए चुनाव को फेडरेशन संयोजक जाकेश साहू ने बताया असंवैधानिक, कहा यह लोकतंत्र की हत्या एवं प्रदेशभर के 1,09,000 वर्ग 03 के साथियों के साथ एक भद्दा मजाक

0
832

रायपुर“। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन” पंजीयन क्रमांक – 122201859545 के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव आगामी रविवार, 10 मार्च को राजधानी रायपुर के ईदगाह भाँठा मैदान में होगा।
“शिक्षाकर्मी वर्ग 03 आंदोलन” के “नेतृत्वकर्ता” एवं “फेडरेशन” के “प्रांतीय संयोजक” जाकेश साहू ने बताया कि आगामी 10 मार्च, रविवार को सुबह 11:00 बजे से, राजधानी रायपुर के ईदगाह भांठा मैदान में एक खुली प्रांतीय महासभा एवं आम बैठक आयोजित होगी जिसमें “छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन”, पंजीयन क्रमांक – 122201859545 के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा।
यह बात उल्लेखनीय है कि कल 03 मार्च को विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों में “फेडरेशन” के प्रांताध्यक्ष पद पर, चुनाव सम्पन्न होने तथा मनीष मिश्रा को प्रदेशाध्यक्ष चुने जाने का खबर वायरल हुआ था।
उक्त खबर के सम्बंध में प्रदेशभर के समस्त 1,09,000 वर्ग 03 के शिक्षाकर्मी साथियों को वास्तविकता बताते हुए फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक जाकेश साहू ने कहा कि कल 03 मार्च, रविवार को फेडरेशन के “प्रांतीय कार्यकारिणी” की अति आवश्यक बैठक आयोजित की गई थी जिनका सूचना उन्होंने खुद विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों में ‘वेब न्यूज’ एवं ‘अतिआवश्यक बैठक’ शीर्षक रूप में खबर जारी किया था।
जिसमें चार सूत्रीय मांगों के सम्बंध में आगे की रणनीति पर चर्चा, सदस्यता अभियान, ब्लाक, जिला एवं प्रान्त पदाधिकारियों का चयन, फेडरेशन के विभिन्न प्रकोष्ठ व प्रकोष्ठ पदाधिकारियों की नियुक्ति पर चर्चा व गठन, आकस्मिक दुर्घटना या असमय मृत्यु के शिकार साथियों के आश्रितों को फेडरेशन की ओर से अनुग्रह राशि कोष की स्थापना पर चर्चा, सहायक शिक्षक साथियों के बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में सुझाव व योजना पर चर्चा, अन्य विषय जो बैठक के समय तय किए जाएंगे उस पर चर्चा व निर्णय।
उपरोक्त बिंदुओं पर ही प्रांतीय बैठक आयोजित थी। चूंकि इनके सम्बन्ध में “12 संयोजक मण्डल” व्हाट्सएप ग्रुप में भी चार दिन पूर्व चर्चा-परिचर्चा हुई थी जिसमें भी फेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष पद पर चुनाव की बात हुई थी जिसमें प्रदेशाध्यक्ष पद पर प्रांतीय संयोजक जाकेश साहू, रंजीत बनर्जी, शिव सारथी एवं मनीष मिश्रा के नाम की चर्चा हुई थी तथा सभी ने प्रदेशाध्यक्ष बनने के लिए अपनी दावेदारी की थी।
उक्त विषय पर मैंने स्पष्ट तौर पर कहा था कि यदि प्रदेशाध्यक्ष पद पर चुनाव सम्पन्न कराना ही है तो इसके लिए कम से कम एक सप्ताह पूर्व सभी साथियों को सार्वजनिक तौर पर सूचना दी जाए एवं उक्त सूचना में प्रदेशाध्यक्ष चुनाव की जानकारी का स्पष्ट उल्लेख हो। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
प्रांतीय बैठक की सूचना मुझे संयोजक ग्रुप में शिव सारथी के मैसेज से मिली। उक्त सूचना में यह कहा गया था कि बीजापुर जिला अध्यक्ष पुरुषोत्तम झाड़ी द्वारा प्रांतीय बैठक बुलाने की सूचना अन्य ग्रुप में चलाई गई है। फिर आनन फानन में बैठक की सूचना शिव सारथी ने बनाई थी कि एक प्रांतीय बैठक आगामी रणनीति पर तत्काल रखते है। साथ ही इस मैसेज को बैठक के दो दिन पूर्व ही चलाई गई, जिस खबर को ही मैंने खूद विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों में चलाया था परन्तु उक्त मैसेज में कंही पर भी स्पष्ट तौर पर नहीं बताया गया है कि बैठक में प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव सम्पन्न कर दिया जाएगा।
चूंकि प्रदेशाध्यक्ष पद पर चुनाव कराए जाने की जानकारी पहले से सभी जिला अध्यक्ष, जिला संयोजक, ब्लाक अध्यक्ष, ब्लाक संयोजक एवं आम शिक्षाकर्मी सदस्य साथियों को नहीं दी गई इसलिए यह चुनाव न सिर्फ असंवैधानिक है बल्कि यह लोकतंत्र की हत्या एवं प्रदेशभर के समस्त 1,09,000 शिक्षाकर्मी साथियों के साथ प्रदेश अध्यक्ष चुनाव के नाम पर भद्दा मजाक है।
कल के चुनाव की खबर किसी भी पदाधिकारी व आम शिक्षाकर्मी साथियों को नहीं थी यदि सभी जिला अध्यक्ष, जिला संयोजक, ब्लाक अध्यक्ष, ब्लाक संयोजक एवं आम शिक्षाकर्मी साथियों को फेडरेशन में प्रदेशाध्यक्ष के चुनाव की खबर स्पष्ट तौर पर दी जाती तो प्रदेशभर के सभी 27 जिलों से 27 जिला अध्यक्ष, 135 जिला संयोजक, 146 ब्लाक अध्यक्ष, 730 ब्लाक संयोजक सहित अनेक संकुल प्रतिनिधि व सैकड़ों आम शिक्षाकर्मी साथीगण राजधानी पहुंचकर अपना प्रदेश अध्यक्ष चुनते व प्रदेशाध्यक्ष चुनाव का गवाही बनते जो कि एक लोकतांत्रिक प्रणाली से हुआ चुनाव माना जाता।
चूंकि कल 03 मार्च को कंही-कंही पर सुबह अचानक भारी बारिश होने से बैठक में अनेको साथी नहीं पहुंच पाएं। मात्र 7 से 8 आठ जिला अध्यक्ष एवं 3 से 4 जिला संयोजक पहुंचे थे। 5 प्रांतीय संयोजक भी उक्त बैठक में नहीं पँहुच पाएं थे, मैं खुद बारिश में भीग जाने के कारण व सुबह मौसम बहोत ज्यादा खराब होने के कारण उक्त प्रांतीय बैठक में नहीं पहुंच पाया था। आधे से अधिक जिला अध्यक्ष व जिला संयोजक नहीं पँहुच पाए थे। कोई भी ब्लाक अध्यक्ष व ब्लाक संयोजक को चुनाव की जानकारी तक नहीं थी और मात्र 15 से 17 लोगो ने मिलकर चुनाव सम्पन्न करा लिए। ऐसे में आनन फानन में अचानक प्रदेशाध्यक्ष चुनना पूर्णतः गलत व असंवैधानिक है।
“वर्ग 03 आंदोलन” के “नेतृत्वकर्ता” एवं “फेडरेशन” के “प्रदेश संयोजक” जाकेश साहू ने प्रदेशभर के शिक्षाकर्मी वर्ग 03 साथियों को बताया कि आगामी 10 मार्च, रविवार को सुबह 11 बजे ईदगाह भाँठा मैदान रायपुर में खुली आमसभा व महाबैठक रखी गई है जिसमें प्रदेशभर से आए समस्त जिला अध्यक्ष, जिला संयोजक, ब्लाक अध्यक्ष, ब्लाक संयोजक, अनेको संकुल प्रतिनिधि व आम शिक्षाकर्मी साथियों की उपस्थिति में “छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन”, पंजीयन क्रमांक – 122201859545 के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव, लोकतांत्रिक एवं संवैधानिक नियमों के अनुरूप खुले तौर पर सम्पन्न की जाएगी।
अतः आगामी रविवार, 10 मार्च को सुबह 11:00 बजे सभी साथीगण खुली महासभा व महाबैठक में पहुंचने का कष्ट करेंगे। जिससे कि फेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव पूर्णतः लोकतांत्रिक व संवैधानिक तरीके से किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.