संविलियन के पूर्व की सेवा समाप्त करने की तैयारी – डेढ़ लाख शिक्षकों का होगा कुठाराधात….क्रमोन्नति, पदोन्नति से दूर करने षणयंत्र….केवल नियमित शिक्षकों को ही पदोन्नति देना चाहता है शिक्षा विभाग….टीचर्स एसोसिएशन ने प्रथम नियुक्ति के आधार पर लाभ के साथ ही समायोजित करने की मांग की को पदोन्नत्ति देना चाहता है शिक्षा विभाग…

0
7070

 

*वेतन विसंगति व पुरानी पेंशन का मुद्दा समाप्त करने की तैयारी*

*एल बी संवर्ग है पदनाम नही*

*प्रथम नियुक्ति से वरिष्ठता देने पर ही करें एल बी विलोपित अन्यथा करेंगे विरोध*

*संविलियन तिथि से प्रथम नियुक्ति गणना की तैयारी*

*पदोन्नति, क्रमोन्नति देने शासन का छूट रहा पसीना इसीलिए अपना रहे हथकंडे*

*एल बी संवर्ग को हटाने शासन स्तर पर प्रक्रिया तेज*

टीचर्स एसोसिएशन ने प्रथम नियुक्ति के आधार पर लाभ के साथ ही समायोजित करने की मांग की

*05 मार्च 2019 के राजपत्र अनुसार एल बी संवर्ग के लिए निर्धारित पदोन्नत्ति के पद के साथ ही ई संवर्ग में हो समायोजन*

रायपुर। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा के नेतृत्व में श्री आलोक शुक्ला जी प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा विभाग से मुलाकात करके ज्ञापन सौप कर चर्चा किया गया है।

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा, प्रदेश संयोजक सुधीर प्रधान, वाजीद खान, प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह, देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, विनोद गुप्ता, प्रदेश सचिव मनोज सनाढ्य, प्रदेश कोषाध्यक्ष शैलेन्द्र पारीक ने कहा है कि एल बी संवर्ग को हटाने शासन स्तर पर प्रक्रिया तेजी से चल रहा है, मतलब स्पष्ट है कि वर्तमान सरकार द्वारा पिछली नियमों में बदलाव किया जा रहा है। टीचर्स एसोसिएशन ने प्रथम नियुक्ति के आधार पर लाभ के साथ ही ई/टी संवर्ग में समायोजित करने की मांग की है साथ ही 05 मार्च 2019 के राजपत्र अनुसार एल बी संवर्ग के लिए निर्धारित पदोन्नत्ति के पद के साथ ही ई संवर्ग में समायोजन स्वीकार्य होगा। सरकार के पास राजपत्र परिवर्तन के समय जनघोषणा पत्र में उल्लेखित क्रमोन्नति, पदोन्नत्ति, वेतन विसंगति पुरानी पेंशन का लाभ देने का उचित अवसर है, किन्तु शिक्षा प्रशासन जनघोषणा पत्र के मुद्दे समाप्त करने पर आमादा है

ज्ञात हो कि संविलियन के बाद प्रथम नियुक्ति तिथि के साथ क्रमोन्नति, पदोन्नति सहित सभी लाभ का मांग मजबूती से किया गया था, जिस पर तत्कालीन शिक्षा सचिव ने बीच का रास्ता तैयार करके एल बी कैडर बनाकर पदोन्नत्ति के लिए पृथक पद निर्धारित किया था, किन्तु वर्तमान में शिक्षा शासन एल बी शिक्षक संवर्ग पर भरोसा न कर केवल पूर्व के नियमित शिक्षको को ही सम्पूर्ण लाभ व सुविधा देना चाहते है यही कारण है एल बी शिक्षक संवर्ग से चर्चा किए बगैर गुपचुप तरीके से एल बी शिक्षक संवर्ग को क्रमोन्नति, पदोन्नति, वेतन विसंगति व पुरानी पेंशन के लाभ व सुविधा से वंचित करने एल बी संवर्ग को ही खत्म कर संविलियन तिथि से लाभ व सुविधा का मापदंड तय करना चाह रहा है, इससे एल बी संवर्ग के शिक्षको की वर्षो पूर्व सेवा को समाप्त करने की तैयारी है। पदोन्नति, क्रमोन्नति देने शासन का पसीना छूट रहा है इसीलिए ये हथकंडे अपना रहे है।

एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने कहा है कि शिक्षको को यह समझना होगा कि एल बी संवर्ग है पदनाम नही अतः पूर्व सेवा का लाभ प्रथम नियुक्ति तिथि को आधार बनाने से ही प्राप्त होगा, एल बी संवर्ग तभी हटे जब प्रथम नियुक्ति के आधार पर विभाग में एल बी हटाकर समायोजन किया जावे। संविलियन के पूर्व की सेवा समाप्त करने की तैयारी है जिससे डेढ़ लाख शिक्षकों के साथ कुठाराधात होगा।

शिक्षा प्रशासन संविलियन को आधार बनाकर क्रमोन्नति अवधि, पदोन्नति अवधि, विभाग में सभी का यही वेतन व पेंशन योजना के सभी लाभ व सुविधा को कनिष्ठ बनाकर मांग को तकनीकी रूप से समाप्त करने पर उतारू है, एसोसिएशन प्रथम नियुक्ति की वरिष्ठता के साथ समायोजन ही स्वीकार करेगा, शिक्षको को कनिष्ठ बनाने के खिलाफ विरोध किया जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.